26 January Shayari In Hindi 2023 Short line, Attitude

26 January Shayari In Hindi 2023 Short line, Attitude

26 January Shayari In Hindi 2023 Short line, Attitude – दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको 26 जनवरी से जुडी हुई शायरी देंगे जो आप गणतंत्र दिवस पर पोस्ट कर सकते हैं , 26 जनवरी हर भारतीय के लिए खास हैं क्युकी इसी दिन हमारा संविधान लागू हुआ था अगर आप इसके बारे में और जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक ज़रूर पढ़े। 26 January Shayari In Hindi 2023 Short line, Attitude

26 जनवरी (गणतंत्र दिवस ) शायरी | 26 January Shayari In Hindi 2023

“आओ झूक कर सलाम कर के उन्हें,
जो देश के लिए जान दे गए,
जिन्के उससे में ये मुकाम आता है,
कश्मीर से कन्याकुमारी तक वो जान दे गए।

“झंडा लहरा के साथ झूम उठे,
सब देश के दिल,
हम सब मिलकर अभिनंदन करे,
इस देश के सबी दिलबर को।

“जब हम छोटे हैं तब बड़े हो कर,
यही कहाँ करते हैं,
अब बड़के होके देखा है हमने,
यही सपना सच हो गया है।

“वतन की सर बुलंदी पे,
हम सब का झंडा लहराएंगे,
जब तक जियेंगे हम,
तिरंगा हमारा आराम से नहीं आएगा।

“वंदे मातरम के गीत गाते हुए,
हम चले देश के लिए,
जिस देश ने हमको जनम दिया है,
हमारे देश के लिए जान दे देंगे।

“हम सब मिलकर देश के लिए,
अपनी जान लगा देंगे,
जब तक जियेंगे हम,
वतन की रक्षा करेंगे।

“हम सब देशभक्त हैं,
हम सब मिलकर देश के लिए जान दे देंगे,
जब तक जियेंगे हम,
तिरंगा हमारा आराम से नहीं आएगा।

“आओ मिलकर देश के लिए,
अपनी जान लगा देंगे,
जब तक जियेंगे हम,
वतन की रक्षा करेंगे।

“हम सब मिलकर देश के लिए,
अपनी जान लगा देंगे,
जब तक जियेंगे हम,
तिरंगा हमारा आराम से नहीं आएगा।

“हम सब देश के लिए,
अपनी जान लगा देंगे,
जब तक जियेंगे हम,
वतन की रक्षा करेंगे।

आज़ादी की क्या शान है,
जिस ने हमको आज़ाद किया,
उन देशभक्तों की क्या पहचान है,
जिनहोने अपनी जान दी है,
आओ मिल कर उन्हें सलाम करें,

आज़ादी के लिए हमने जान दे दी,
अब आज़ादी का जश्न मनाना है

आज़ादी की रात ऐसी हो,
कि हर तराफ खुशी हो.

26 जनवरी क्यों मानते हैं | 26 January Kyu Manate Hain

भारत में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। 1950 में आज ही के दिन भारत का संविधान लागू हुआ था, जिसने भारत सरकार अधिनियम 1935 को भारत के शासी दस्तावेज के रूप में प्रतिस्थापित किया था। संविधान सभा द्वारा 26 नवंबर 1949 को संविधान को अपनाया गया था और 26 जनवरी 1950 को भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद द्वारा राष्ट्रपति की सहमति दी गई थी। 26 January Shayari In Hindi 2023 Short line, Attitude

इस दिन को राजधानी नई दिल्ली में एक भव्य परेड द्वारा चिह्नित किया जाता है, जहां विभिन्न सांस्कृतिक और पारंपरिक प्रदर्शनों का प्रदर्शन किया जाता है, साथ ही साथ भारत की सैन्य शक्ति का प्रदर्शन भी किया जाता है। भारत के राष्ट्रपति एक भाषण भी देते हैं और व्यक्तियों और संगठनों को बहादुरी और विशिष्ट सेवा पदक प्रदान करते हैं।

नई दिल्ली में परेड के अलावा, इसी तरह की परेड और समारोह राज्यों की राजधानियों और देश भर के अन्य शहरों में होते हैं। यह दिन भारत में एक राष्ट्रीय अवकाश है, और देश भर के लोग देशभक्ति गतिविधियों और समारोहों में भाग लेते हैं।

भारत का गणतंत्र दिवस एक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय अवकाश है जो देश के संविधान और गणतंत्र में इसके परिवर्तन का जश्न मनाता है। यह उन लोगों के बलिदानों का सम्मान करने का दिन है जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी और लोकतंत्र और एकता के लिए देश की प्रतिबद्धता की पुष्टि की। 26 January Shayari In Hindi 2023 Short line, Attitude

संविधान क्या है | Samvidhan Kya Hain

भारत का संविधान भारत का सर्वोच्च कानून है। यह मौलिक राजनीतिक सिद्धांतों को परिभाषित करने वाले ढांचे को निर्धारित करता है, सरकारी संस्थानों की संरचना, प्रक्रियाओं, शक्तियों और कर्तव्यों को स्थापित करता है, और नागरिकों के मौलिक अधिकारों, निर्देशक सिद्धांतों और कर्तव्यों को बताता है। यह दुनिया के किसी भी संप्रभु देश का सबसे लंबा लिखित संविधान है, जिसमें 22 भागों में 444 लेख, 12 अनुसूचियां और 118 संशोधन हैं, इसके अंग्रेजी भाषा के संस्करण में 146,385 शब्द हैं। संविधान सभा द्वारा 26 नवंबर 1949 को अपनाया गया था और 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया था।

भारत का संविधान सरकार की एक संघीय संरचना स्थापित करता है, हालांकि संविधान में ही इस शब्द का उपयोग नहीं किया गया है। संविधान केंद्र सरकार और राज्यों की शक्तियों और कार्यों को निर्धारित करता है, और यह केंद्र और राज्यों के बीच शक्तियों के विभाजन का भी प्रावधान करता है।

संविधान सभी नागरिकों को कुछ मौलिक अधिकारों की गारंटी भी देता है, जैसे समानता का अधिकार, भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, धर्म, और जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता। यह राज्य के नीति के कुछ निर्देशक सिद्धांतों को भी निर्धारित करता है, जो कानूनी रूप से लागू करने योग्य नहीं हैं, लेकिन इसका उद्देश्य सरकार को इसकी नीति-निर्माण में मार्गदर्शन करना है।

संविधान एक स्वतंत्र न्यायपालिका का भी प्रावधान करता है, जिसमें सर्वोच्च न्यायालय शीर्ष पर और उच्च न्यायालय और राज्य स्तर पर निचली अदालतें हैं। संविधान स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए एक स्वतंत्र चुनाव आयोग की भी स्थापना करता है।

कुल मिलाकर, भारत के संविधान को देश का सर्वोच्च कानून माना जाता है, और अन्य सभी कानूनों और विनियमों को इसके अनुरूप होना चाहिए। संविधान में कोई भी बदलाव संशोधन की एक विशिष्ट प्रक्रिया के माध्यम से किया जाना चाहिए और राज्यों के बहुमत द्वारा इसकी पुष्टि की जानी चाहिए।

गणतंत्र दिवस महत्व क्या हैं | 26 January की Importance Kya hain

भारत में गणतंत्र दिवस हर साल 26 जनवरी को उस दिन को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है जब 1950 में भारत का संविधान लागू हुआ था, भारत सरकार अधिनियम 1935 को भारत के शासी दस्तावेज के रूप में प्रतिस्थापित किया गया था।

गणतंत्र दिवस का महत्व इस तथ्य में निहित है कि यह भारत के ब्रिटिश उपनिवेश से गणतंत्र में परिवर्तन का प्रतीक है। संविधान को अपनाने से पहले, भारत ब्रिटिश संसद द्वारा पारित कानूनों के माध्यम से ब्रिटिश सरकार द्वारा शासित था। संविधान को अपनाने के साथ, भारत एक संप्रभु राष्ट्र बन गया, जिसमें कानूनों और शासी संस्थानों का अपना सेट था।

भारत का संविधान सरकार की एक संघीय संरचना स्थापित करता है और केंद्र सरकार और राज्यों की शक्तियों और कार्यों को निर्धारित करता है। यह सभी नागरिकों को कुछ मौलिक अधिकारों की गारंटी भी देता है, जैसे समानता का अधिकार, भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, धर्म, और जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता।

यह दिन पूरे देश में बड़े उत्साह और देशभक्ति के उत्साह के साथ मनाया जाता है। राजधानी नई दिल्ली में एक भव्य परेड आयोजित की जाती है, जहां विभिन्न सांस्कृतिक और पारंपरिक प्रदर्शनों का प्रदर्शन किया जाता है, साथ ही साथ भारत की सैन्य शक्ति का प्रदर्शन भी किया जाता है। भारत के राष्ट्रपति एक भाषण भी देते हैं और व्यक्तियों और संगठनों को बहादुरी और विशिष्ट सेवा पदक प्रदान करते हैं।

नई दिल्ली में परेड के अलावा, इसी तरह की परेड और समारोह राज्यों की राजधानियों और देश भर के अन्य शहरों में होते हैं। देश भर के लोग देशभक्ति गतिविधियों और समारोहों में भाग लेते हैं, और राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं।

यह भी पढ़े :

26 January Baby Boy Photoshoot Ideas At Home
26 January Speech in Hindi For School Students
26 January Ko Kya Hua Tha Bharat Mein

Leave a Comment