Pulwama Attack Kya Hain : पुलवामा अटैक क्या हैं ?

Pulwama Attack Kya Hain : पुलवामा अटैक क्या हैं ?

Pulwama Attack Kya Hain : पुलवामा अटैक क्या हैं ? – दोस्तों आज हम आपको इस आर्टिकल में पुलवामा टास्क के बारे में जानकारी देंगे जो हमारे देश भारत पर एक ऐसा अटैक हुआ था जिसने पुरे देश को हिला कर रख दिया था और 40 जवानो को शहीद कर दिया था। और हम आपको यह भी बताएँगे के के पुलवामा अटैक किसने करवाया था और कब हुआ था। अगर आप पुलवामा अटैक के बारे में जानना चाहते हैं तो आगे ज़रूर पढ़े

Pulwama Attack Kya Hain : पुलवामा अटैक क्या हैं ?
Pulwama Attack Kya Hain : पुलवामा अटैक क्या हैं ?

पुलवामा अटैक क्या है : Pulwama Attack Kya Hain

पुलवामा हमला एक आतंकवादी हमला था जो 14 फरवरी, 2019 को पुलवामा, जम्मू और कश्मीर, भारत में हुआ था। भारतीय सुरक्षा कर्मियों को ले जा रहे वाहनों के एक काफिले को एक आत्मघाती हमलावर ने निशाना बनाया, जिसने विस्फोटकों से भरे वाहन को बसों में से एक में टक्कर मार दी। इस हमले के परिणामस्वरूप 40 भारतीय अर्धसैनिक कर्मियों और अपराधी की मौत हो गई। यह हमला पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद द्वारा किया गया था, और इससे भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव में उल्लेखनीय वृद्धि हुई। भारत सरकार ने हमले के लिए पाकिस्तान को दोषी ठहराया और पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों पर हवाई हमले सहित कई जवाबी कदम उठाए।

पुलवामा अटैक किसने कराया था : Pulwama Attack Kisne Karaya Tha

14 फरवरी, 2019 को पुलवामा हमले को पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के एक आत्मघाती हमलावर ने अंजाम दिया था। हमलावर आदिल अहमद डार ने भारतीय सुरक्षा कर्मियों को ले जा रहे वाहनों के काफिले में विस्फोटक से भरे वाहन से टक्कर मार दी, जिसके परिणामस्वरूप 40 केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों की मौत हो गई। जैश-ए-मोहम्मद (JeM), जो पाकिस्तान में स्थित है, ने हमले की जिम्मेदारी लीथी । इस घटना ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को बढ़ा दिया, जिसके कारण पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में आतंकवादी शिविरों पर भारत द्वारा हवाई हमले किए गए और दोनों देशों के बीच सैन्य टकराव हुआ।

पुलवामा अटैक के क्या परिणाम निकले : Pulwama attack Ke Kya Result Nikale

पुलवामा हमले के कई परिणाम हुए:

  • भारत ने पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में आतंकवादी शिविरों पर हवाई हमले शुरू किए, जिससे दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया।
  • भारत ने पाकिस्तान को दिया गया मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया, जिसके परिणामस्वरूप पाकिस्तान से आयातित सामानों पर सीमा शुल्क में वृद्धि हुई।
  • भारत ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने और वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) द्वारा उसे काली सूची में डालने के लिए कूटनीतिक प्रयास भी शुरू किए।
  • भारत ने व्यक्तियों को आतंकवादी के रूप में नामित करने के लिए गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) में एक संशोधन पारित किया, जिससे सरकार को उनकी संपत्ति को जब्त करने और उनकी यात्रा को प्रतिबंधित करने की अनुमति मिली।
  • भारत में पाकिस्तानी उत्पादों और कलाकारों के बहिष्कार के लिए व्यापक विरोध और आह्वान किया गया।

कुल मिलाकर, इस हमले से भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों में भारी गिरावट आई और इस क्षेत्र में तनाव बढ़ गया।

यह भी पढ़े :

ब्लैक दे क्या हैं और क्यों मनाया जाता हैं
काऊ हग दे क्या हैं और कब मनाया जाता हैं
प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना क्या है
How to Book Airo Show Banglore 2023 Ticket

पुलवामा अटैक को ब्लैक डे के रूप में क्यों बनाया जाता हैं ?

14 फरवरी, 2019 को पुलवामा आतंकवादी अटैक, जिसमें पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद (JeM) से संबंधित एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरे वाहन को भारतीय सुरक्षा कर्मियों को ले जा रहे वाहनों के काफिले में टक्कर मार दी, जिसके परिणामस्वरूप केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के 40 जवानों की मौत।
यह अटैक एक महत्वपूर्ण और दुखद घटना थी जिसने पीड़ितों के परिवारों और पूरे देश को बहुत पीड़ा और कष्ट पहुँचाया। भारत में 14 फरवरी को “ब्लैक डे” के रूप में नामित करना पुलवामा हमले के पीड़ितों को याद करने और उनके परिवारों और व्यापक समुदाय के साथ एकजुटता व्यक्त करने का एक तरीका है।

Leave a Comment